Saturday, June 1, 2024

A story of an unknown journey' by- Sushil Dobhal' अनजान सफर के वह सात दिन'- सुशील डोभाल,

 
लेकी कोई 30-35 साल की महिला थी। मुझे नहीं मालूम कि वह विवाहित थी या अविवाहित। वह अपनी मातृभाषा तिब्बती के अलावा एक गाइड के रूप में टूटी-फूटी हिंदी बोल सकती थी जो मुझे समझाने के लिए काफी थी। ऊबड़-खाबड़ पगडंडियों और पथरीले वीरान रास्तों से होते हुए कई घंटे के सफर के बाद हम शाम के वक्त चारों ओर पहाड़ों से घिरी हुई एक समतल भूमि पर पहुंच गए। यहां से आगे के सफर को लेकर उसने जोखिम की संभावना व्यक्त करते हुए यहीं पड़ाव डालने के लिए कहा। चारों तरफ वीरान पहाड़, पेड़ पौधों का कहीं नामोनिशान नहीं, बस कहीं-कहीं पर छोटी मखमली घास देख ऐसा प्रतीत होता मानो किसी अजनबी दुनिया में आ गए। यहीं कभी मिट्टी और पत्थरों से बना लेकिन अब खंडहर हो चुका चरवाहों का घर हमारा पड़ाव बना था।
  लेकी ने अपने थैले से त्सम्पा निकालकर मुझे फिर से खाने को दिया। इस सफर में बस पानी के साथ एक त्सम्पा ही था जिसे खाकर हम अपनी भूख मिटा सकते थे, और अब तो मुझे भी इसका स्वाद कुछ ठीक लगने लगा था। लेकी ने मुझे सोने से पहले कुछ स्थानीय देवताओं के बारे में जानकारी देते हुए उनका अभिवादन करने का विशेष तरीका भी समझाया और बताया कि बाहरी व्यक्तियों की गतिविधियों पर उनकी बड़ी नजर रहती है। 

2 comments:

  1. आगे कैसे पढ़े?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अगला पेज अपलोड हो चुका है।

      Delete

पोस्ट पर अपने उपयोगी विचार और सुझाव यहाँ कमेंट करें।

Featured post

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी    PM SHRI Atal Utkarsh Govt. Inter College Jakhnidhar T.G. Sus...