Posts

Featured post

School Education Uttarakhand: अटल उत्कृष्ट इंटर कॉलेजों से ट्रांसफर हुए शक्षकों को अग्रिम आदेशों तक कार्यभारमुक्त न करने के यहां जारी हुए निर्देश

Image
अल्मोड़ा के मुख्य शिक्षा अधिकारी अंबादत बलोदी ने अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेजों से स्थानांतरित हुए शिक्षकों को अग्रिम आदेशों तक कार्यभार मुक्त न करने के निर्देश जारी किए हैं। ट्रांसफर सत्र में पहाड़ के दुर्गम क्षेत्रों में स्थित अटल उत्कष्ट राजकीय इंटर कॉलेजो से बड़ी संख्या में शिक्षकों के ट्रांसफर होने से शिक्षण कार्य प्रभावित होने की संभावना से यह स्थिति उत्पन्न हुई है। सीईओ अल्मोड़ा का यह निर्णय अब अन्य जनपदों के लिए भी नजीर बन सकता है।    सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को जारी निर्देश पत्र में सीईओ अल्मोड़ा ने कहा है कि उपरोक्त करम में विज्ञ है कि वर्तमान सत्र में स्थानान्तरण अधिनियम के अन्र्तगत (स०अ० एल०टी०/ प्रवक्ताओं) के स्थानान्तरण हो रहे हैं। शासनादेशानुसार में अटल उत्कृष्ट विद्यालयों में स्थानान्तरण के फलस्वरुप शिक्षकों की तैनाती की व्यवस्था नहीं है, अपितु शिक्षक अनुरोध के आधार पर अन्यत्र स्थानान्तरित हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में अटल उत्कृष्ट विद्यालयों में अनुरोध के आधार पर स्थानान्तरण के फलस्वरुप शिक्षण कार्य अत्यधिक प्रभावित होने की सम्भावना है। जिला अधिकारी महोदय, अल्मोड़ा द्

Tehri Kitab Kauthig: टिहरी किताब कौथिग का अनेक शख्सियतों की मजूदगी में हुआ समापन, विधायक किशोर उपाध्याय और टिहरी के सीईओ एसपी सेमवाल ने किया आभार व्यक्त

Image
क्रिएटिव उत्तराखंड, भारत ज्ञान विज्ञान समिति और विद्यालयी शिक्षा विभाग की सयुक्त पहल पर आयोजित दो दिवसीय टिहरी किताब कौथिग रविवार को संपन्न हो गया। इस अनोखे कार्यक्रम में देशभर के करीब 60 प्रकाशकों की 70 हजार से अधिक किताबों के साथ ही विज्ञान की गतिविधियों पर आधारित प्रदर्शनी लगाई गई। कार्यक्रम मे जहां पद्मश्री बसंती बिष्ट, पद्मश्री माधुरी बर्थवाल और पद्मश्री लबराज सिंह धर्मसत्तू ने अपने अनुभव साझा किए वही गढरत्न नरेंद्र सिंह नेगी सहित अनेक शख्शियतों ने कार्यक्रम हो शानदार बना दिया। कार्यक्रम के संयोजक और टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी और क्रिएटिव उत्तराखंड के संथापक हेम पंत ने कार्यक्रम में सहयोग के लिए सभी का आभार व्यक्त किया है।   कार्यक्रम में उत्तराखंड के लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी के गीतों में सामाजिक मुद्दे, मातृभाषा शिक्षण परिचर्चा आकर्षण का केंद्र रही। मातृभाषा को लेकर आयोजित संवाद परिचर्चा में डॉ. नंद किशोर हटवाल, डॉ. कमला पंत, मुख्य शिक्षा अधिकारी शिव प्रसाद सेमवाल, खजान सिंह ने व्याख्यान दिए। इस मौके पर बीज बचाओ आंदोलन के प्रणेता विजय जड़धारी की पुस्तक उत्तराखंड में पौष्टिक खा

Uttrakhand principal direct recruitment: भारतीय शिक्षा पद्धति से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

Image
हिमवंत ई-पत्रिका को यहां Follow करें। प्रिय पाठकों, प्राचीन काल से ही भारत में सभी वर्गों को शिक्षा प्राप्ति का अधिकार रहा है। प्राचीन समय में भारत में गुरुकुल पद्धति से शिक्षा दी जाती थी। यह पद्धति अत्यंत कठिन थी परंतु इससे प्राप्त ज्ञान जीवन को बदलने वाला था। आज से लगभग 2700 वर्ष पूर्व भारत के तक्षशिला में विश्व का पहला विश्वविद्यालय स्थापित किया गया था। इसके बाद लगभग 2300 वर्ष पूर्व नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। यह दोनों ही विश्वविद्यालय वेद वेदांग के अतिरिक्त ज्ञान-विज्ञान, तकनीकी, गणित खगोल, भौतिकी, राजनीति शास्त्र, अर्थशास्त्र, नीति शास्त्र, व्याकरण आदि अनेक विषयों के लिए प्रसिद्ध थे। भारत में शिक्षा के स्‍वरूप में बदलाव विदेशी आक्रमणों के साथ ही शुरू हो गया था, कई बार भारत के शिक्षा प्रणाली में बदलाव किया गया। इसमें सबसे ज्‍यादा बदलाव ब्रिटिश हुकूमत के समय आया। स्वतंत्रता के बाद भारत में गठित शिक्षा आयोगों ने भारतीय शिक्षा प्रणाली में अनेक उल्लेखनीय सुधार किए हैं। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए यहां भारतीय शिक्षा प्रणाली और विभिन्न आयोगों पर आधारित लघुउत्त

Tehri Kitab Kauthig: टिहरी किताब कौथिग के पहले दिन पद्मश्री बसंती बिष्ट, पद्मश्री माधुरी बर्थवाल और टिहरी के विधायक किशोर उपाध्याय सहित कई हस्तियों ने किया प्रतिभाग, पहले दिन दर्जनों प्रकाशकों की सैकड़ो किताबों की बिक्री ने बढ़ाया उत्साह।

Image
नई टिहरी के नगर पालिका सभागार में दो दिवसीय किताब कौथिग आरंभ हुआ है। कार्यक्रम के संयोजक हेम पन्त और दयाल पांडे ने बताया कि नौ सफल आयोजनों के बाद पहली बार किताब कौथिग गढ़वाल मंडल में हो रहा है जिसमें लगभग 60 प्रकाशकों की 50 हजार से अधिक किताबें देखने और खरीदने के लिए उपलब्ध हैं। पहले दिन विभिन्न प्रकाशकों की सैकड़ो किताबों की बिक्री हुई। कार्यक्रम के पहले दिन पद्मश्री माधुरी बर्थवाल और बसंती बिष्ट सहित अनेक विशिष्ट लोगों के कार्यक्रम हुए।  कार्यक्रम में “खतरे में हिमालय” विषय पर विधायक किशोर उपाध्याय, डॉ. एस.पी. सती और सुरेश नौटियाल ने अपने विचार रखे। इस दौरान तीनों वक्ताओं ने पर्यावरणीय संकट को लेकर गंभीर चिंता व्यक्त की है। कार्यक्रम नागरिक मंच, व्यापार संघ, मैती मिलन परिवार की समस्त टीम और सभी स्कूलों के विद्यार्थियों ने आम जनता के साथ बड़ी संख्या में प्रतिभाग किया। विज्ञान, विश्व साहित्य, धर्म और आध्यात्म, लोकप्रिय साहित्य सहित विभिन्न विधाओं की उपलब्ध किताबों में लोगों ने बहुत रुचि दिखाई। किताबों के अलावा विज्ञान कोना और उत्तराखंड के कलाकारों के हस्तशिल्प स्टॉल भी आकर्षण का केंद्

Tehri Kitab Kauthig: बाल लेखन कार्यशाला में 64 बच्चों ने बनाई हस्तलिखित पुस्तकें, हस्तलिखित पत्रिका टिहरी दर्पण व दीवार पत्रिकाओं का हुआ लोकापर्ण

Image
Hemlata Bhatt, Principal DIET New Tehri  टिहरी किताब कौतिक के पहले चरण में राजकीय बालिका इंटर कालेज बौराड़ी में अल्मोड़ा से प्रकाशित बच्चों की पत्रिका बालप्रहरी,भारत ज्ञान विज्ञान समिति, क्रिएटिव उत्तराखंड तथा शिक्षा विभाग टिहरी के संयुक्त तत्वावधान में 15 जुलाई से आयोजित बाल लेखन कार्यशाला के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि  जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान टिहरी की प्राचार्य हेमलता भट्ट ने कहा कि मोबाइल संस्कृति के आज के दौर में बच्चे हम बड़ों से अधिक जानते हैं। मोबाइल, कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के मामले में आज के बच्चे बड़ों से आगे हैं। उनकी प्रतिभा को अवसर दिया जाना समय की जरूरत है।    समारोह की अध्यक्षता करते हुए जिला शिक्षा विनोद कुमार ढौढियाल ने कहा कि गैर शैक्षणिक गतिविधियां बच्चों को मंच प्रदान करती है। उन्होंने  कहा कि बच्चे पुस्तकें नहीं पढ़ रहे हैं, बच्चे मोबाइल से चिपके रहते हैं ऐसा कहकर हम बच्चों को दोष नहीं दे सकते हैं। इसके लिए हम बड़े लोग जिम्मेदार हैं। वक्ताओं ने कहा कि एक साहित्यकार, शिक्षक व साहित्यकार बतौर हम बड़े लोग पुस्तकें पढेंगे, पुस्तकें खरीदकर घर पर ले जाएंगे तो बच्चे जरू

Tehri Kitab Kauthig: मुख्य शिक्षा अधिकारी एसपी सेमवाल ने की 'टिहरी किताब कौथिग' में सहयोग की अपील, देश भर के कई साहित्यकार और प्रकाशक पहुंच रहे हैं टिहरी के इस अनोखे उत्सव में, स्कूली बच्चों को जरूर करवाएं प्रतिभाग

Image
SP Semwal, CEO Tehri Garhwal  टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी एसपी सेमवाल ने आगामी 20 और 21 जुलाई को आयोजित होने वाले 'टिहरी किताब कौथिग' के आयोजन के लिए नगर के शैक्षिक संस्थानों, अभिभावकों, शिक्षकों और आमलोगों से सहयोग की अपील की है। उन्होंने कहा है कि इस अनोखे कार्यक्रम में जहां स्कूली बच्चों को करियर काउंसलिंग के साथ अपनी प्रतिभाओं को निखारने का मौका मिलेगा वहीं उभरते लेखको और साहित्यकारों को भी एक बेहतर मंच मिल पाएगा।     साहित्य, शिक्षा, पर्यटन और संस्कृति के उत्सव 'टिहरी किताब कौथिग' में प्रतिभाग करने के लिए देश के कई प्रसिद्ध प्रकाशक और साहित्यकार टिहरी में जुटने शुरू हो गए हैं। इस अनोखे पुस्तक मेले में देशभर के सौ से अधिक साहित्यकार, लेखक, इतिहासकार, कवि, रंगकर्मी और गीतकार टिहरी पहुंच रहे हैं। कार्यक्रम में जहां 60 से अधिक प्रसिद्ध प्रकाशकों की हजारों पुस्तक पाठकों और आमलोगों के लिए उपलब्ध रहेगी वहीं साहित्यिक परिचर्चा, नेचर वॉक और स्कूली बच्चों के लिए करियर काउंसलिंग के साथ ही काव्य गोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रम वे आयोजित होंगे।    मुख्य शिक्षा अधिकारी शिवप्रसा

Tehri Kitab Kauthig: स्कूली बच्चों ने सीखी लेखन की बारीकियां, 'बाल-दर्पण' और 'बाल-संसार' का भी हुआ विमोचन, 'किताब कौथिग' के आयोजन को लेकर विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों की यहां संपन्न हुई बैठक

Image
राजकीय बालिका इंटर कॉलेज बौराड़ी में आयोजित पांच दिवसीय बाल लेखन कार्यशाला के तीसरे दिन बुधवार को दर्जनों स्कूली बच्चों ने अनेक गतिविधियों में प्रतिभाग किया। इस दौरान बाल प्रभारी के संपादक और साहित्यकार उदय किरोला ने जहां बच्चों को रचनात्मक लेखन की अनेक बारीकियों की जानकारी दी वहीं बच्चों ने भी अपनी प्रतिभाओं का बेहतरीन परिचय दिया। इस मौके पर 20 व 21 जुलाई को टिहरी में 'किताब कौथिग' के आयोजन को लेकर विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों ने कार्यक्रम के सफल संचालन पर विचार विमर्श कर कार्ययोजना तय की है।  नवाचारी शिक्षकों के  Whatsapp Group  'हिमवंत' पर जुड़ने के लिए यहां टच करें    साहित्य, शिक्षा, पर्यटन और संस्कृति का उत्सव ‘किताब कौथिग’ का दसवां चरण 20 व 21 जुलाई को नई टिहरी में आयोजित होगा। इस दौरान 'आओ दोस्ती करें किताबों से' विचार के साथ देशभर के 60 प्रकाशकों की करीब 70 हजार पुस्तकें साहित्य प्रेमियों के अवलोकन और खरीद के लिए उपलब्ध रहेंगी। इसके अलावा साहित्यिक विमर्श, कवि सम्मेलन, नेचर वॉक, पुस्तक लोकार्पण और सांस्कृतिक संध्या सहित कई रोचक कार्यक्रम भी होंगे।  क्र