Saturday, June 22, 2024

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी  
PM SHRI Atal Utkarsh Govt. Inter College Jakhnidhar T.G.
Sushil Dobhal- प्रिय विद्यार्थियों, आशा करता हूं कि आने वाली बोर्ड परीक्षा और तमाम प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आप बेहतर ढंग से तैयारी कर रहे होंगे। मेरा प्रयास रहता है कि मैं समय-समय पर आप सभी को अर्थशास्त्र विषय से जुड़ी जानकारियां और विशेष रूप से एनसीईआरटी की 12वीं कक्षा के पाठ्यक्रम पर आधारित नोट्स और परीक्षा के लिए उपयोगी सामग्री आपको 'हिमवंत' के माध्यम से उपलब्ध करवा सकूं। इसी क्रम में व्यष्टि अर्थशास्त्र के परिचय पर आधारित कुल 35 बहुविकल्पीय प्रश्न यहां आपके साथ साझा कर रहा हूं। यहां दिए गए प्रश्न के सही विकल्प को चुनकर submit करते जाएं। अंत में आपको एक बार सभी प्रश्नों के उनके सही उत्तरों के साथ आपका स्कोर कार्ड भी प्रदर्शित हो जाएगा। इससे आपको सीखने और परीक्षा के लिए तैयारी में सहायता मिल सकेगी।
मिशन कोशिश 
Micro Economics lesson 1, व्यष्टि अर्थशास्त्र- एक परिचय 

Economics study: महीने के अंतिम शनिवार को शिक्षक सुशील डोभाल ऐसे कर रहे हैं छात्रों की विषयगत समस्याओं का समाधान


सुशील डोभाल, प्रवक्ता अर्थशास्त्र, विद्यालयी शिक्षा उत्तराखंड
Report by- Sushil Dobhal- अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेज जाखणीधार में महीने के अंतिम शनिवार को छात्रों की विषयगत समस्याओं के समाधान के लिए ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही है। क्विज प्रतियोगिताओं में छात्र-छात्राए एक दूसरे को प्रश्न पूछते हैं और आपस में प्रतिस्पर्धा करते हैं। इसके साथ ही इंटरनेट के माध्यम से प्रत्येक पाठ के लिए क्विज प्रतियोगिताएं तैयार कर विद्यालय के वेब पोर्टल पर अपलोड करते हैं।

 Class 12th Economics Objective Question, Economics MCQ, Short and Long Answer Type Question and Answers in Hindi by Sushil Dobhal sir  
कक्षा 12 अर्थशास्त्र बहुविकल्पीय, लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर हिंदी में  
   प्रिय विद्यार्थियों, आशा करता हूं कि आने वाली बोर्ड परीक्षा और तमाम प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आप बेहतर ढंग से तैयारी कर रहे होंगे। मेरा प्रयास रहता है कि मैं समय-समय पर आप सभी को अर्थशास्त्र विषय से जुड़ी जानकारियां और विशेष रूप से NCERT की 12वीं कक्षा के पाठ्यक्रम पर आधारित नोट्स और परीक्षा के लिए उपयोगी सामग्री आपको 'हिमवंत' के माध्यम से उपलब्ध करवा सकूं। इसी क्रम में व्यष्टि और समष्टि अर्थशास्त्र से  बहुविकल्पीय प्रश्न और उनके उत्तर यहां आपके साथ साझा कर रहा हूं। यहां दिए गए प्रश्न के सही विकल्प को चुनकर submit करते जाएं। अंत में आपको एक बार सभी प्रश्नों के उनके सही उत्तरों के साथ आपका स्कोर कार्ड भी प्रदर्शित हो जाएगा। इससे आपको सीखने और परीक्षा के लिए तैयारी में सहायता मिल सकेगी। मेरा यह प्रयास आपको कैसा लगा?  विद्यार्थी और शिक्षक साथी कृपया अंत में अपना उपयोगी कमेंट अवश्य छोड़ें।



Thursday, June 20, 2024

Transfer- School Education Uttarakhand: पौड़ी और चमोली के मुख्य शिक्षा अधिकारियों सहित प्रशासनिक संवर्ग के 10 शिक्षा अधिकारियों के हुए ट्रांसफर।


Report by- Sushil Dobhal: उत्तराखंड शासन ने विद्यालयी शिक्षा विभाग में पौड़ी और चमोली के मुख्य शिक्षा अधिकारियों सहित प्रशासनिक संवर्ग के 10 शिक्षा अधिकारियों के विभिन्न श्रेणियां के अंतर्गत ट्रांसफर किए हैं। पौड़ी के मुख्य शिक्षा अधिकारी दिनेश चंद्र गौड़ को एक बार फिर विभागाध्यक्ष सीमेट के पद पर ट्रांसफर दिया गया है। जबकि चमोली के मुख्य शिक्षा अधिकारी कुलदीप गैरोला को संयुक्त शिक्षा निदेशक, मध्याह्न भोजन योजना प्रकोष्ठ उत्तराखंड देहरादून के लिए ट्रांसफर मिला है।
   सचिव विद्यालयी शिक्षा रविनाथ रमन के हस्ताक्षरों से निर्गत आदेशों में कहा गया है कि उक्त आदेश के क्रम में स्थानान्तरित कार्मिकों/अधिकारियों द्वारा उत्तराखण्ड लोक सेवकों के लिए स्थानान्तरण अधिनियम, 2017 की धारा-22 में निहित प्राविधानानुसार अपने वर्तमान तैनाती के स्थान से नियमानुसार कार्यमुक्त होते हुए, ससमय नवीन तैनाती के स्थान पर योगदान किया जाना सुनिश्चित किया जायेगा। इसके साथ अनिवार्यता के आधार पर किये गये स्थानान्तरण हेतु स्थानान्तरित कार्मिक नियमानुसार स्थानान्तरण भत्ते हेतु अर्ह होंगे तथा अनुरोध के आधार पर किये गये स्थानान्तरण हेतु स्थानान्तरित कार्मिक स्थानान्तरण भत्ते हेतु अर्ह नहीं होंगे।


Wednesday, June 19, 2024

Transfer: विद्यालयी शिक्षा विभाग की बड़ी खबर- मिनिस्ट्रियल संवर्ग के दो सौ से अधिक कर्मचारियों के हुए विभिन्न श्रेणियों में ट्रांसफर, एक सप्ताह के भीतर करना होगा नई तैनाती स्थल पर ज्वॉइन

विद्यालयी शिक्षा विभाग से बड़ी खबर सामने आई है। निदेशालय प्रारम्भिक शिक्षा उत्तराखण्ड ननूरखेड़ा  देहरादून ने विभिन्न श्रेणियां के अंतर्गत 200 से अधिक मिनिस्ट्रियल संवर्ग के कर्मचारियों के ट्रांसफर किए हैं। ट्रांसफर हुए प्रशासनिक अधिकारियों और कार्मिकों को एक सप्ताह के भीतर कार्यभार ग्रहण करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।
   निदेशक प्रारंभिक शिक्षा रामकृष्ण उनियाल के हस्ताक्षर से जारी आदेशों में कहा गया है कि उत्तराखंड लोक सेवकों के लिए वार्षिक स्थानान्तरण अधिनियम, 2017, शासनादेश संख्या 30/XXX- 2/2018-30(13)2017 दिनांक 6 फरवरी, 2018, शासनादेश सं०-1/130236/XXX (2)/2023/E-33080, शासनादेश सं0-198739/XXX(2)/2023/E-33080 कार्मिक एवं सर्तकता अनुभाग-2 दिनांक 14-03-2024, महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा, उत्तराखण्ड के पत्रांक-विविध/2116-22/ स्था० बैठक/2024-25 दिनांक 02-05-2024 एवं वार्षिक स्थानान्तरण अधिनियम-2017 की धारा-16 के प्राविधानानुसार स्थानान्तरण सत्र 2024-25 हेतु गठित विभागीय स्थानान्तरण समिति द्वारा वार्षिक स्थानान्तरण अधिनियम की धारा-07, धारा-09 एवं धारा 10 में निहित व्यवस्था के कम में दी गयी संस्तुति पर निम्नांकित विवरणानुसार उनके नाम के सम्मुख स्तम्भ-4 में अंकित कार्यालय / विद्यालय में तत्काल प्रभाव से अनिवार्य रूप से स्थानान्तरित किया जाता है। स्थानान्तरण अधिनियम-2017 की धारा 22 में निहित प्राविधानानुसार उक्त स्थानान्तरित कार्मिकों के संबंध में निम्नलिखित कार्यवाही की जायेगीः- 
समस्त स्थानान्तरित कार्मिक स्थानान्तरण आदेश निर्गत होने की तिथि से 01 सप्ताह के अन्दर स्थानान्तरित स्थल पर कार्यभार ग्रहण करेंगे। संबंधित संस्थाध्यक्ष / कार्यालयाध्यक्ष स्थानान्तरित कार्मिक को तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त करेंगे तथा स्थानान्तरित कार्मिक का वेतन नवीन स्थानान्तरित विद्यालय / कार्यालय से हीआहरित किया जायेगा।
  1.  स्थानान्तरित कार्मिक को किसी भी प्रकार का अवकाश स्वीकृत नहीं किया जायेगा। 
  2. स्थानान्तरित किये गये कार्मिक के द्वारा नवीन तैनाती स्थान पर कार्यभार ग्रहण न करने पर उनके विरूद्ध स्थानान्तरण अधिनियम की धारा-24 के अधीन दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी।
  3. अवमुक्त होने वाले कार्मिक नियमानुसार अनुमन्य कार्यभार ग्रहण अवधि का उपभोग नवीन तैनाती के पद का कार्यभार ग्रहण करने के उपरान्त ही कर सकेंगे, तथा अवमुक्ति के उपरान्त मात्र अनुमन्य यात्रा अवधि (joining time) का ही उपभोग कर सकेंगे।वीडियो देखें 

"आओ दोस्ती करें किताबों से" की थीम के साथ टिहरी में 20-21 जुलाई को आयोजित होगा दसवें चरण का 'किताब कौथिग, प्रतिष्ठित प्रकाशकों की 70 हजार पुस्तकें पाठकों के लिए रहेगी उपलब्ध,

Report by- Sushil Dobhal: क्रिएटिव उत्तराखंड और भारत ज्ञान विज्ञान समिति द्वारा 20 और 21 जुलाई को नगर पालिका सभागार नई टिहरी में दसवें चरण के "किताब कौथिग" का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम के संयोजक और टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा है कि "आओ, दोस्ती करें क़िताबों से" की थीम के साथ 60 प्रकाशकों की करीब 70 हजार पुस्तकें साहित्यप्रेमियों और पाठकों के अवलोकन और खरीद के लिए उपलब्ध रहेंगी। इस अनूठे कार्यक्रम में कवि-सम्मेलन, इतिहास, शिक्षा, साहित्य और सामाजिक मुद्दों पर चर्चा-परिचर्चा के साथ ही स्कूली बच्चों के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे।
Watch Video
    साहित्य, शिक्षा, पर्यटन और संस्कृति का उत्सव "किताब कैथिग" 9 सफल पड़ावों के बाद अपने दसवें चरण में टिहरी पहुंच रहा है। 20 और 21 जुलाई 2024 को पालिका सभागार टिहरी में आयोजित होने वाले इस अनोखे कार्यक्रम में देशभर से अनेक प्रतिष्ठित लेखकों और साहित्यकारों को आमंत्रित किया जा रहा है। क्रियेटिव उत्तराखंड के हेम पंत, दयाल पांडे और प्रवीन भट्ट ने बताया कि बच्चों और युवाओं में पढ़ने लिखने की संस्कृति विकसित करने के उद्देश्य से उत्तराखंड के विभिन्न स्थानों में किताब कौथिग अभियान चलाया जा रहा है। पहला किताब कौथिक दिसंबर 2022 को टनकपुर में आयोजित किया गया था। उसके बाद बैजनाथ, चंपावत, पिथौरागढ़, द्वाराहाट, भीमताल, नानकमत्ता,  हल्द्वानी, रानीखेत के बाद अब गढ़वाल मंडल में पहली बार टिहरी में किताब कौथिक के रूप में किताबों का यह अनूठा मेला लगने जा रहा है। 
   टिहरी किताब कौथीग के संयोजक और मुख्य शिक्षा अधिकारी शिवप्रसाद सेमवाल ने कहा है की किताब कौथिग में प्रतिष्ठित लेखकों की करीब 70 हजार पुस्तकें उपलब्ध रहेंगी। जिसमें देश के करीब साठ पुस्तक प्रकाशकों के स्टाल्स भी लगेंगे। इसके अलावा साहित्यिक विमर्श, कवि सम्मेलन, नेचर वॉक, पुस्तक विमोचन और सांस्कृतिक संध्या सहित कई रोचक कार्यक्रम भी होंगे। इससे पूर्व 15 से 19 जुलाई तक बाल-प्रहरी के संपादक और साहित्यकार उदय किरौला द्वारा बच्चों के लिए रचनात्मक लेखन कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी। कार्यक्रम में वरिष्ठ लेखकों को सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने टिहरी व आस-पास के रहवासियों से क्षेत्र की विशिष्ट पहचान को सुदृढ़ करने के लिए रचनाशीलता के इस अभियान में सहभागी बनने की अपील की है। 

Career in the field of Teaching: शिक्षण के क्षेत्र में करियर, विद्यालयी शिक्षा उत्तराखंड, PPT by- Sushil Dobhal

Career in the field of Teaching: 
शिक्षण को बेहद सम्मानित पेशे के रूप में देखा जाता हैं. भारतीय संस्कृति में तो गुरु को ईश्वर के समतुल्य माना गया है, हालांकि समय के साथ- साथ शिक्षण का तरीका बदला है, लेकिन इस क्षेत्र में करियर की आज भी अपार संभावनाएं हैं. अध्यापन के क्षेत्र में प्री-स्कूल से लेकर हायर एजुकेशन तक आज शिक्षित युवाओं के सामने अनेक शानदार विकल्प उपलब्ध है किंतु जानकारी के अभाव में अधिकतर छात्र इस दिशा में कदम आगे बढ़ा ही नहीं पाते हैं अथवा कुछ लोग अनुपयोगी पाठ्यक्रमों का चयन कर भविष्य में कठिन महसूस करते हैं। 
    शिक्षक के क्षेत्र में पारंपरिक रूप से संचालित पाठ्यक्रमों में समय के साथ-साथ कई बदलाव हुए हैं और आने वाले समय में भी इसमें कुछ बड़े बदलाव होने वाले हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति NEP 2020 में स्पष्ट प्रावधान है की 2030 से पूर्व अभी तक संचालित D.El.Ed और B.Ed पाठ्यक्रम पूरी तरह बंद हो जाएंगे और उनके स्थान पर 4 वर्षीय एकीकृत शिक्षक शिक्षा कार्यक्रम ITEP संचालित होंगे। तो आईए, जानते हैं की मौजूदा दौर में शिक्षक बनने के लिए क्या मापदंड निर्धारित किए गए हैं और शिक्षक बनने के लिए किन पाठ्यक्रमों के जरिए हम आसानी से अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं।



Career in the field of Teaching: शिक्षण के क्षेत्र में करियर, विद्यालयी शिक्षा उत्तराखंड, PPT by- Sushil Dobhal

Saturday, June 15, 2024

Rudraprayag Accident: रुद्रप्रयाग के पास हुई बड़ी दुर्घटना, 26 यात्रियों को लेकर जा रहा टेंपो ट्रैवलर अलकनंदा में गिरा, 10 की मौत,

रुद्रप्रयाग जिले से बड़े हादसे की खबर सामने आई है। यहां एक टेंपो ट्रैवलर अलकनंदा नदी में जा गिरा। हादसे में नौ लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। जबकि 12 को रेस्क्यू किया गया। कई लोगों की हालत गंभीर है। कुछ लोगों को बचाने के लिए अभियान चल रहा है।
    टेंपो ट्रैवलर में 26 यात्री सवार थे। घायलों को हेलिकॉप्टर से हायर सेंटर ले जाया जा रहा है। गुप्तकाशी से हेलिकॉप्टर रुद्रप्रयाग पहुंचा। चार घायलों को हेलिकॉप्टर से एम्स ले जाया गया है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार रुद्रप्रयाग शहर से पांच किलोमीटर आगे बदरीनाथ हाईवे पर रैतोली के पास एक टेंपो ट्रेवलर अलकनंदा नदी में गिर गया।
   सूचना पर पुलिस प्रशासन जिला आपदा प्रबंधन, डीडीआरएफ समेत अन्य टीम मौके पर रेस्क्यू कार्य कर रही है। बताया जा रहा है कि यहां रेलवे लाइन पर काम कर रहे तीन लोग बचाने के लिए कूदे, जिनमें से एक की मौत हो गई।

UKSSSC Recruitment: UKSSSC मे 1200 पदों पर हो रही हैं जल्दी भर्ती, बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर

Uttarakhand Employment News:
उत्तराखंड में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर है। आचार संहिता हटने के बाद उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में भर्तियों का सिलसिला शुरू हो रहा है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव सुरेंद्र रावत ने बताया की प्रदेश में आयोग जल्द ही 1200 नई भर्तियां निकलने जा रहा है, जो कि अगले 6 महीने में पूरी हो जाएंगी।
1200 नई भर्तियों में से 600 पद फॉरेस्ट गार्ड के हैं। 84 वन दरोगा के पद हैं। हालांकि अभी इस अधियाचन पर विभागीय स्तर से कुछ कमी है, जिसे जल्द ही पूरा करके यह भर्तियां निकाली जाएंगी। 209 कनिष्ठ सहायक के पद जो कि इंटर लेवल तक के हैं, इनकी विज्ञप्ति भी जल्द आने वाली है। 200 स्टेनो के पदों के अलावा अन्य छोटे- छोटे मल्टी डिपार्टमेंट में कुल मिलाकर 1200 नई विज्ञप्तियां अगले 6 महीने में उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा जारी कर दी जाएंगी। इनके बारे में अभ्यर्थी समय-समय पर आयोग की वेबसाइट पर भी जानकारी ले सकते हैं
2000 पदों पर जल्द होनी हैं परीक्षाएं-
उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव सुरेंद्र रावत ने जानकारी दी है कि इस महीने से लेकर अगले अगस्त सितंबर तक आयोग द्वारा तकरीबन 2000 ऐसे पदों पर परीक्षाएं करवाई जानी हैं, जिनके लिए पहले ही फॉर्म भरे जा चुके हैं।

  • आबकारी विभाग में सिपाही के 100 पद, परिवहन आरक्षी के 118, सिपाही पद और एक्साइज इंस्पेक्टर के रूप में 14 पदों पर 30 जून को होनी है परीक्षा
  • सहायक अध्यापक आईटी की रिटर्न परीक्षा के लिए 1544 पदों पर 18 अगस्त को होनी है परीक्षा।
  •  स्टोर कीपर यानी कि सहायक भंडारण के 24 पदों पर 21 जुलाई को होनी है परीक्षा
  • राज्य संपति विभाग में ड्राइवर के 33 पदों पर 7 जुलाई को होनी है परीक्षा
  • वन विभाग के 200 स्कॉलर पदों पर इन दिनों फिजि हो रहा है, तो वहीं जल्दी इस पर रिटर्न परीक्षा भी हो तो वहीं जल्दी इस पर रिटर्न परीक्षा भी होनी है
  • गृह विभाग के तहत होमगार्ड प्रशिक्षक यानी जो लोग होमगार्ड के जवानों को ट्रेनिंग देते हैं, ऐसे 24 ट्रेनर के पदों पर जल्द होनी हैं परीक्षाएं
पिछले ढाई सालों में 4 हजार से ज्यादा लोगों की लगी नौकरी
उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव सुरेंद्र कुमार ने बताया कि आयोग में जिस तरह से पुराना विवाद रहा है, उसके बाद से लेकर अब तक नए पदाधिकारी द्वारा आयोग में काफी सारे सुधार किए गए हैं. उन्होंने बताया कि उनकी ज्वाइनिंग से लेकर अब तक यानी कि जनवरी 2022 से लेकर के 10 जून 2024 तक आयोग द्वारा तकरीबन 4200 पदों पर नियुक्ति दी जा चुकी है।


Thursday, June 13, 2024

School Education Uttarakhand: निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट के लिए अमर्यादित भाषाशैली को लेकर शिक्षकों में उबाल, निदेशक और शिक्षकों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने वालों को नही करेंगे बर्दास्त- राजकीय शिक्षक संघ उत्तराखंड

निदेशक माध्यमिक शिक्षा- महावीर सिंह बिष्ट
School Education Uttarakhand: एजुकेशन मिनिस्ट्रियल ऑफिसर्स ऐसोशियेशन द्वारा जारी पत्र में निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट के लिए की गई अमर्यादित टिप्पणी और अनर्गल आरोपो को लेकर राजकीय शिक्षक संघ ने सख्त नाराजगी व्यक्त की है। राज्य के सैकड़ो शिक्षकों ने जहां सोशल मीडिया में निदेशक के प्रति किए गए इस अमर्यादित व्यवहार और पत्राचार पर सवाल उठाए हैं वही राजकीय शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष राम सिंह चौहान ने कहा है कि निदेशक और शिक्षकों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने वालों को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
गंभीर आरोप लगाते हुए निर्देशक को दी नसीहत
  एजुकेशन मिनिस्ट्रियल ऑफिसर्स संगठन उत्तराखंड के प्रांतीय अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह गुसाई और महामंत्री साबर सिंह रौथान सहित अन्य पदाधिकारियों के हस्ताक्षर से निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट को जारी पत्र में संगठन द्वारा उन पर हाल में ही आहरण वितरण अधिकारी का प्रभार प्रभारी प्रधानाचार्य को सौपने के निर्णय को मनमाना और भेदभाव से प्रेरित बताते हुई अनेक आरोप लगाए हैं। मिनिस्ट्रियल संगठन ने ने पत्र के माध्यम से जहां निदेशक पर आरोप लगाए हैं वही उन्हें कई मुद्दों पर नसीहत भी दी है।  
निदेशक और शिक्षकों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने का सुनियोजित प्रयास
 यह पत्र सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए कई शिक्षकों निदेशक माध्यमिक शिक्षा पर लगाए गए आरोपो और पत्र की भाषा शैली पर सख्त आपत्ति करते हुए निदेशक के समर्थन में खुलकर सामने आने की घोषणा की है। शिक्षकों का कहना है कि पत्र की भाषा शैली से स्पष्ट हो जाता है कि यह निदेशक सहित राज्य के हजारों शिक्षकों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने की इरादे से संयोजित ढग से तैयार किया गया है। 
राज्य का हर शिक्षक आत्मसम्मान की इस लड़ाई में निदेशक एमएस बिष्ट के साथ 
राजकीय शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष रामसिंह चौहान ने कहा है की "निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट के  साथ किये गये अभद्र व्यवहार और अशोभनीय भाषा की राजकीय शिक्षक संघ उत्तराखंड निंदा ही नहीं घोर भर्त्सना भी करता है। हमारे आत्मसम्मान से खेलने वालों को क़तई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। चाहे कितना भी बड़ा आंदोलन करना पड़े। आइए साथियों अपने आत्मसम्मान की लड़ाई के लिए एकजुटता का परिचय दें और निदेशक माध्यमिक शिक्षा को बृहद समर्थन दें। राज्य के शिक्षक निदेशक एमएस बिष्ट के साथ हर परिस्थिति में एकजुट होकर खड़े हैं।" 
हिमवंत ई-पत्रिका को यहां Follow करें।
राजकीय शिक्षक सघ गढ़वाल मंडल नहीं व्यक्त किया अपना विरोध
दूसरी ओर राजकीय शिक्षक संघ गढ़वाल मंडल ने एजुकेशन मिनिस्ट्रियल ऑफिसर्स एसोसिएशन उत्तराखंड के पदाधिकारियों द्वारा निदेशक माध्यमिक शिक्षा  उत्तराखंड  महावीर सिंह बिष्ट जी के अपमान पर कड़ा रोष व्यक्त किया है। गढ़वाल मंडल महामंत्री डॉ हेमन्त पैन्यूली द्वारा संगठन के पदाधिकारियों द्वारा निदेशक को संबोधित पत्र की भाषा पर कड़ी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा की निदेशक हमारे और मिनिस्टीरियल के भी सर्वोच्च विभागीय अधिकारी हैं उनको प्रेषित विरोध पत्र में इस तरह की अनर्गल और धमकी भरी भाषा का कोई औचित्य नहीं है इस पत्र की भाषा से स्पष्ट है की मिनिस्टीरियल के कर्मचारी अपनी मर्यादा भूल चुके हैं। तथा एक उच्च अधिकारी को अभद्र भाषा में पत्र प्रेषित कर अपनी सीमाओं को लांघ रहे हैं, उन्होंने इस मुद्दे पर निदेशक माध्यमिक शिक्षा श्री महावीर सिंह बिष्ट से एजुकेशनल मिनिस्टर ऑफिसर्स एसोसिएशन के द्वारा तत्काल माफी मांगे जाने की मांग की है। श्री बिष्ट विभागीय मुद्दों पर अपनी निष्पक्ष व सटीक राय रखकर एक सक्रिय अधिकारी की भूमिका निभाते आए हैं इतने वरिष्ठ अधिकारी के अभद्र विरोध को उन्होंने अनुचित बताया तथा मिनिस्ट्रियल संगठन के पदाधिकारी द्वारा निदेशक महोदय से माफी नहीं मांगी जाती है तो उन्होंने निदेशक महोदय के समर्थन में आंदोलन की चेतावनी दी। राजकीय शिक्षक संघ गढ़वाल मंडल प्रवक्ता कमलनयन रतूड़ी ने निदेशक की पूर्व सेवाओं पर टिप्पणी को मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन का असंवेदनशील रवैया बताया, जिस तरह से मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के पदाधिकारी इतने अनुभवी अधिकारी को नियम कानून का पाठ पढ़ा रहे हैं उसे लगता है की संगठन अपनी सीमाओं को भूल चुका है। 
विरोध का यह तरीका नहीं हो सकता है स्वीकार्य 
   मंडलीय मीडिया प्रवक्ता सुशील डभाल ने मिनिस्ट्रियल संवर्ग के प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा उच्च अधिकारी के लिए प्रयुक्त भाषा शली पर नाराजगी व्यक्त करते हुई कहा है कि विरोध करने का यह तरीका बिल्कुल उचित नहीं है। विभागीय पत्राचार में भाषा शैली और प्रोटोकॉल का लिहाजा रखा जाना चाहिए। इस कृत्य से जहां निदेशक माध्यमिक शिक्षा आहत हुए हैं, वही राज्य के हजारों शिक्षकों में भी भारी आक्रोश व्याप्त हो गया है।

Wednesday, June 12, 2024

School Education Uttarakhand: शिक्षा सागर फाउंडेशन ने देशभर के 153 शिक्षकों को किया सम्मानित, देहरादून में संपन्न हुआ कार्यक्रम

  शिक्षा सागर फाउंडेशन ने देहरादून में संपन्न हुए एक कार्यक्रम विभिन्न राज्यों के 153 शिक्षकों को श्री देव सुमन राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया है। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि एससीईआरटी की सयुक्त निदेशक कंचन देवराडी  और सहायक निदेशक डा0 केएल बिजल्वाण सहित कई लोग मौजूद रहे।
   उक्त आशय का प्रेस नोट भेजकर शिक्षिका नदी बहुगुणा ने हिमवंत वेब पोर्टल को जानकारी दी है कि शिक्षा सागर फाउंडेशन राष्ट्रीय स्तर के शिक्षकों का एक समूह है। इसके फाउंडर गुजरात के शिक्षक शैलेश भाई प्रजापति हैं। यह फाउंडेशन शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले शिक्षकों को प्रोत्साहित करने की उद्देश्य यह सम्मान देता है। देहरादून में संपन्न हुई कार्यक्रम में 153 नवाचारी शिक्षकों को सम्मानित किया गया। 
  कार्यक्रम की मुख्य अतिथि एससीईआरटी की सयुंक निदेशक कंचन देवरानी, सहायक निदेशक डा केएल बिजल्वाण, डा मुन्नीद्र सकलानी,  शिक्षा सागर फाउंडेशन प्रमुख शैलेश प्रजापति, सुरेश राणा, रंजीत सिंह, नंदी बहुगुणा, सरोजबाला सेमवाल, प्रमोद चमोली, मीना तिवारी, तेजोमही बधानी, सन्तोष व्यास, सरिता मैन्दौला, संजय असवाल, विनोद रावत, दिनेश विष्ट, कमलेश बलूनी, गायत्री मिश्रा, अश्वन भाई प्रजापति और राजीव थपलियाल आदि मौजूद रहे।

Monday, June 10, 2024

#ops: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए 50% पेंशन की मोदी सरकार कर सकती है शीघ्र घोषणा, "पुरानी पेंशन बहाली से कम कुछ भी मंजूर नहीं"- कर्मचारी संगठन

National Pension Scheme: नरेंद्र मोदी के तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद केंद्र सरकार राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) के को लेकर कुछ बड़े निर्णय ले सकती है। इसके तहत कर्मचारियों को पेंशन के रूप में अंतिम मूल वेतन के 50 प्रतिशत तक पेंशन की गारंटी मिलेनी तय मानी जा रही है। दूसरी ओर कर्मचारी संगठन हू ब हू पुरानी पेंशन बहाली के लिए देशभर में पुरजोर मांग कर रहे हैं।
लोकसभा चुनाव में दिखा पुरानी पेंशन बहाली की मांग का प्रभाव
राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है कि हाल में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कर्मचारियों की मांग का प्रत्यक्ष प्रभाव देखा गया है। इससे जहां कर्मचारियों में पुरानी पेंशन बहाली की उम्मीद जगी है वही सत्ता पक्ष को भी इस मुद्दे पर सोचने का मुद्दा मिला है। गतवर्ष मार्च 2023 में वित्त सचिव टीवी सोमनाथन की अध्यक्षता में एक पैनल का गठन किया गया था। इस पैनल का गठन ओल्ड पेंशन सिस्टम (ओपीएस) पर वापस लौटे बिना सरकारी कर्मचारियों के लिए एनपीएस के तहत पेंशन लाभ बढ़ाने के तरीके सुझाने के लिए किया गया। सरकार ने यह फैसला ऐसे समय में लिया जब कई राज्यों ने एनपीएस को छोड़कर ओपीएस पर वापस लौटना शुरू कर दिया है।
 एनपीएस का अब यह है प्रस्ताव
नए प्रस्ताव के तहत केंद्रीय कर्मचारियों को अंतिम मूल वेतन के 50 प्रतिशत तक की पेंशन की गारंटी मिलेगी। गारंटीशुदा पेंशन राशि को पूरा करने के लिए आवश्यक पेंशन कोष में किसी भी कमी को केंद्र सरकार के बजट से कवर किया जाएगा। इससे लगभग 8.7 मिलियन केंद्रीय और राज्य सरकार के कर्मचारियों को फायदा हो सकता है। ये वो कर्मचारी होंगे, जो 2004 से एनपीएस में रजिस्टर्ड हैं।

Friday, June 7, 2024

School Education Uttarakhand: Employee of the Month चयनित होने पर इन दो प्रशासनिक अधिकारियों को निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट ने किया सम्मानित

School Education Uttarakhand: कार्यालयी कार्यों के समयबद्ध निस्तारण एवं कार्मिकों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से निदेशालय माध्यमिक शिक्षा में उत्कृष्ट कार्यों के लिए वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी बृजमोहन सिंह रावत और वीरेन्द्र सिंह रावत को माह मई 2024 हेतु Employee of the Month नामित करते हुए निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट द्वारा सम्मानित किया गया।  
    निदेशक माध्यमिक शिक्षा के कार्यालय से जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी बृजमोहन सिंह रावत को माह अप्रैल 2024 तथा वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी वीरेंद्र सिंह रावत को माह में 2024 के लिए Employee of the Month के लिए चयनित होने पर सम्मानित किया गया है। निदेशक माध्यमिक शिक्षा महावीर सिंह बिष्ट ने कहा है कि दोनो कार्मिकों ने समयबद्ध कार्यों के निस्तारण करने में अपना उत्कृष्ट योगदान दिया है।
Employee of the Month के चयन हेतु कार्मिक की माह में उपस्थिति, आवंटित कार्यों का समयबद्ध निस्तारण, पत्रावलियों का रख-रखाव एवं स्वच्छता एवं कार्य कुशलता, शासनादेशों / नियमों की जानकारी एवं नोटशीट / पत्रावली में उसका उल्लेख, नोटशीट एवं पत्र के आलेख में शुद्धता को मानक बनाया गया है। निर्धारित मानकों के अनुसार Employee of the Month के चयन हेतु निदेशालय स्तर पर 02 समितियां बनायी गयी हैं, जिनकी अनुशंसा पर Employee of the Month का चयन किया गया है।
    निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने कहा है कि Employee of the Month के चयन से अन्य कार्मिक भी प्रोत्साहित होकर कार्य करेंगे, इससे शासकीय कार्यों के ससमय निस्तारण की भावना भी जागृत होगी। भविष्य में भी प्रत्येक माह इसी प्रकार कार्मिकों को सम्मानित किया जाता रहेगा। निदेशालय स्तर से Employee of the Month की चयन के लिए प्रारूप भी जारी किया गया। विद्यालय शिक्षा विभाग के अंतर्गत नियोजित समस्त मिनिस्ट्रियल संवर्ग के कार्मिक और हिमवंत पाठक Employee of the Month का प्रारूप यहां से Download कर सकते हैं।

Thursday, June 6, 2024

INSPIRE Faculty Fellowship 2024: INSPIRE फैकल्टी फेलोशिप के लिए भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने आमंत्रित किए आवेदन पत्र, यहां मिलेगी पूरी जानकारी।

INSPIRE Faculty Fellowship 2024: भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से INSPIRE फैकल्टी फेलोशिप 2024 के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इस प्रतिष्ठित फेलोशिप के लिए 1 जनवरी 2024 तक ऊपरी आयु सीमा सामान्य श्रेणी के लिए 32 वर्ष और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/महिलाओं के लिए 37 वर्ष और बेंचमार्क विकलांगता वाले उम्मीदवारों के लिए ऊपरी आयु सीमा 42 वर्ष निर्धारित है पात्र अभ्यर्थी केवल INSPIRE वेब-पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
   भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की "प्रेरित अनुसंधान के लिए विज्ञान में नवाचार INSPIRE (आईएनएसपीआईआरई)" योजना के अंतर्गत मेधावी युवा भारतीय विद्यार्थियों को कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर पर मूल और प्राकृतिक विज्ञानों का अध्ययन करने तथा इंजीनियरिंग, चिकित्सा, कृषि और पशु चिकित्सा विज्ञान सहित मूल और अनुप्रयुक्त विज्ञान दोनों क्षेत्रों में अनुसंधान करियर बनाने के अवसर प्रदान किए जाते हैं।  
   INSPIRE faculty fellowship इंस्पायर फैकल्टी फेलोशिप 27-32 वर्ष की आयु वर्ग के डॉक्टरेट उम्मीदवारों को इंजीनियरिंग, चिकित्सा, कृषि, पशु चिकित्सा विज्ञान और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी डोमेन में अनुवादात्मक अनुसंधान सहित बुनियादी और अनुप्रयुक्त विज्ञान दोनों क्षेत्रों में 5 वर्षों के लिए स्वतंत्र अनुसंधान करने का अवसर प्रदान करता है।
फ़ेलोशिप राशि
प्रत्येक चयनित इंस्पायर फैकल्टी फेलो को 2,000/- रुपये की वार्षिक वृद्धि के साथ फेलोशिप के रूप में प्रति माह 1,25,000/- रुपये की समेकित राशि प्राप्त करने का पात्र होगा। इसके अलावा, प्रत्येक सफल उम्मीदवार को 5 वर्षों के लिए हर साल 7,00,000/- रुपये का अनुसंधान अनुदान भी प्रदान किया जाएगा। 1,25,000/- रुपये प्रति माह की समेकित राशि एक सर्व-समावेशी फेलोशिप है और भारतीय आईटी अधिनियम के अनुसार कर योग्य है।
आवश्यक पात्रता:
  • भारतीय नागरिक और भारतीय मूल के लोग जिनके पास पीआईओ का दर्जा हो और जिनके पास विश्व के किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से पी.एच.डी. की डिग्री (विज्ञान, गणित, इंजीनियरिंग, फार्मेसी, चिकित्सा और कृषि से संबंधित विषयों में) हो।
  • अभ्यर्थियों को सीनियर सेकेंडरी परीक्षा (कक्षा 12 के बाद) से लेकर पूरे शैक्षणिक प्रोफाइल में न्यूनतम 60% (या समकक्ष सीजीपीए) अंक प्राप्त करने चाहिए।
  • जिन लोगों ने अपनी पीएचडी थीसिस जमा कर दी है और डिग्री मिलने का इंतजार कर रहे हैं, वे भी पात्र होंगे। हालांकि, फेलोशिप के लिए चयन की पुष्टि पीएचडी डिग्री मिलने के बाद ही की जाएगी।
  • 1 जनवरी 2024 तक सामान्य श्रेणी के लिए अधिकतम आयु सीमा 32 वर्ष है। हालांकि, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/महिला उम्मीदवारों के लिए, उक्त तिथि को अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष होगी। बेंचमार्क विकलांगता वाले व्यक्तियों (निर्दिष्ट विकलांगता के 40 प्रतिशत से कम नहीं वाले दिव्यांगजन) के लिए अधिकतम आयु सीमा 42 वर्ष होगी।
  • उम्मीदवार की उत्कृष्ट शोध क्षमता को प्रदर्शित करने वाले उच्च प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशन। हालाँकि, नए विषय क्षेत्र 'एस एंड टी में ट्रांसलेशनल रिसर्च' में फैकल्टी फेलोशिप के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास कम से कम दो पेटेंट दर्ज होने चाहिए या उनके नाम पर एक पेटेंट स्वीकृत होना चाहिए।
  • आवेदक https://www.nstedb.com/List-NSTEDB-TBIs.htm पर जा सकते हैं।)
भारत में नियमित/अनुबंधित पदों पर कार्यरत उम्मीदवार भी अपने करियर की संभावनाओं में सुधार और वृद्धि के लिए INSPIRE फैकल्टी फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं, लेकिन चयन होने पर उम्मीदवारों को INSPIRE फैकल्टी फेलोशिप लेने से पहले वर्तमान नौकरी और संगठन से इस्तीफा देना होगा (कोई ग्रहणाधिकार या प्रतिनियुक्ति या किसी भी प्रकार की छुट्टी स्वीकार नहीं की जाएगी)। IFF आवेदन जमा करने के बाद किसी भी संस्थान/विश्वविद्यालय में नियमित पद के लिए चुने गए उम्मीदवार केवल INSPIRE फैकल्टी फेलो के रूप में चुने जाने पर ही रिसर्च ग्रांट प्राप्त करने के हकदार होंगे।
वांछनीय
वे अभ्यर्थी जो कक्षा 12वीं की परीक्षा में शीर्ष 1% में हों, आईआईटी-जेईई, एनईईटी रैंक धारक हों, स्नातक या स्नातकोत्तर स्तर की विश्वविद्यालय परीक्षाओं में प्रथम रैंक धारक हों।
आवेदन कैसे करें
इच्छुक और पात्र छात्रों को केवल ऑनलाइन मोड के माध्यम से सभी आवश्यक दस्तावेजों के साथ आवेदन करना होगा। आवेदन INSPIRE वेब-पोर्टल https://www.online-inspire.gov.in पर ऑनलाइन जमा किए जाने हैं। आवेदन जमा करने में रुचि रखने वालों को इस पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा और आवेदन ऑनलाइन जमा करना होगा। कृपया
आवेदन जमा करने से पहले पोर्टल पर उपलब्ध दिशा-निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। यह वेब-पोर्टल आवेदन जमा करने के लिए 1 जून, 2024 से 15 जुलाई, 2024 (23:59 बजे तक IST) तक खुला रहेगा।
आवेदन करने के लिए यहां जाएं
INSPIRE-फैकल्टी फ़ेलोशिप घटक के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया हमें ईमेल करें: inspired.prog-dst@nic.in. प्रश्नों के लिए कृपया 0124-6690020, 0124- 6690021 पर कॉल करें।
ऑनलाइन आवेदन भरने के निर्देश:
  • इंस्पायर फैकल्टी फेलोशिप जून-2024 के अंतर्गत आवेदन आमंत्रित करने की तिथि 01 जून 2024 से 15 जुलाई 2024 तक (23:59 बजे तक) खुली है।
  • इंस्पायर फैकल्टी फेलोशिप अधिकतम 5(पांच) वर्ष की अवधि के लिए है।
  • आवेदन केवल ऑनलाइन माध्यम से ही जमा किए जाने चाहिए। ऑनलाइन मोड के अलावा किसी अन्य माध्यम से आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए कृपया वेबसाइट: https://www.online-inspire.gov.in पर जाएं और वहां बताई गई प्रक्रिया का पालन करें।
  • कृपया ऑनलाइन आवेदन भरने के लिए दिशानिर्देश और FAQs डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें: https://online-inspire.gov.in.
  • आवेदकों को सलाह दी जाती है कि वे अपने रिकॉर्ड के लिए ऑनलाइन जमा किए गए आवेदन का प्रिंटआउट ले लें। कृपया आवेदन या कोई अन्य दस्तावेज डाक से न भेजें।
  • अपूर्ण या गलत तरीके से भरा गया आवेदन या आवश्यक दस्तावेजों के अभाव वाले आवेदन को सरसरी तौर पर अस्वीकार कर दिया जाएगा।
  • ऑनलाइन आवेदन जमा करने के लिए आवेदक का अपना वैध और कार्यात्मक ईमेल पता ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। आवेदन की स्थिति केवल INSPIRE वेब-पोर्टल के माध्यम से ही बताई जाएगी। स्थिति देखने के लिए आवेदक को अपने (पंजीकृत) खाते में लॉग इन करना होगा। संस्थान की ईमेल आईडी का उपयोग करने की अनुमति नहीं है।
  • एक से अधिक आवेदन न भेजें। कृपया आवेदन जमा करने से पहले सुनिश्चित करें कि आवेदन के सभी पहलू सही हैं।
  • आवेदन करने से पूर्व अधिकृत वेबसाइट पर विस्तृत जानकारी का अध्ययन कर लें। 

Breaking News: सांसद बनने के बाद कंगना रनौत को CISF की महिला जवान ने क्यों मारा थप्पड़, चंड़ीगढ़ एयरपोर्ट पर हुआ जबरदस्त हंगामा

बॉलीवुड एक्ट्रेस और मंडी से बीजेपी सांसद कंगना रनौत को चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर CISF की महिला गार्ड ने थप्पड़ मार दिया। बताया जा रहा है कि कंगना द्वारा किसान आंदोलन को लेकर दिए गए बयान से कुलविंदर कौर नामक CISF की महिला गार्ड  आहत थी इसीलिए उसने बीजेपी सांसद को थप्पड़ मारा दिया। एक्ट्रेस ने सख्त एक्शन लेने की मांग की हैं।
बीजेपी सांसद को CISF की महिला गार्ड क्यों मारा थप्पड़?
घटना दोपहर करीब 3 बजकर 30 मिनट पर हुई थी। कंगना को चंडीगढ़ से दिल्ली जाना था तभी सिक्योरिटी चेक के दौरान CISF की महिला जवान कुलविंदर कौर ने इस हरकत को अंजाम दिया। दावा है कि सीआईएसएफ गार्ड कंगना रनौत के किसान आंदोलन के खिलाफ बात करने को लेकर नाराज थी। कंगना के साथ चल रहे मयंक मधुर ने कुलविंदर कौर को थप्पड़ मारने की कोशिश की। इसके बाद कंगना की ओर से पुलिस में शिकायत दी गई। वो फ्लाइट से दिल्ली के लिए रवाना हो गईं हैं।
आरोपी CISF गार्ड को किया गया सस्पेंड
दिल्ली पहुंचकर कंगना रनौत ने सीआईएसएफ महानिदेशक नीना सिंह और दूसरे सीनियर अफसरों से मुलाकात की. इसके बाद CISF महिला गार्ड कुलविंदर कौर को हिरासत में लिया गया और पूछताछ के बाद उसे सस्पेंड कर दिया गया.
संसद जाने से पहले इंस्टाग्राम पर शेयर की थी फोटो
मंडी से बीजेपी के टिकट पर लोकसभा चुनाव जीतने के बाद कंगना रनौत आज दिल्ली के लिए रवाना हो गई थी। इसी दौरान चंडीगढ़ एयरपोर्ट से थप्पड़ मारने की खबर आई है। कंगना ने सोशल मीडिया पर अपनी फोटो शेयर करते हुए बताया था कि वो संसद जा रही हैं। उन्होंने अपनी तस्वीर भी इंस्टाग्राम पर शेयर की है।

Wednesday, June 5, 2024

Breaking News: मोदी ही बनेंगे फिर प्रधानमंत्री, 21 नेताओं ने किए हस्ताक्षर, नायडू और नीतीश का भी मिला समर्थन


लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद अब सरकार बनाने की कोशिशें तेज हो गई हैं. इस चुनाव में किसी एक दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है लेकिन बीजेपी नेतृत्व वाले एनडीए के पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त सीटें हैं. हालांकि, सरकार बनाने के लिए बीजेपी की निर्भरता जेडीयू और टीडीपी पर है. उधर, कांग्रेस नेतृत्व वाले इंडिया गठबंधन का भी जोश हाई है. भले ही इंडिया गठबंधन पूर्ण बहुमत से कुछ दूर रह गया हो लेकिन उनके खेमे को नए सहयोगियों की मदद से मोदी को सत्ता से बेदखल करने की प्लानिंग जरूर हो रही है. इस पूरी कशमकश के बीच आज दिल्ली में एनडीए और इंडिया दोनों गठबंधन की बैठकें हो रही हैं. मोदी कैबिनेट अपना इस्तीफा सौंप चुकी है और नई सरकार गठन के लिए बीजेपी तैयारी कर रही है।
राष्ट्रपति ने NDA सांसदों को मिलने का समय दिया
राष्ट्रपति ने एनडीए सांसदों को मिलने का समय दे दिया है. 7 जून को राष्ट्रपति से सभी सांसद मिलेंगे. इसके लिए शाम 5 बजे से शाम 7 बजे तक का समय दिया गया है. उधर राजनाथ सिंह, अमित शाह और नड्डा सभी मिलकर सहयोगी दलों के साथ सरकार के स्वरूप पर चर्चा करेंगे।

Summer Camp: राजीव गांधी नवोदय विद्यालय तपोवन में स्कूली बच्चों का राज्य स्तरीय 10 दिवसीय समर कैंप हुआ संपन्न, छात्र-छात्राओं के लिए आयोजित हुई अनेक गतिविधियों,

Himwant Educational News: राजीव गांधी नवोदय विद्यालय तपोवन में एकेडमिक शोध एवं प्रशिक्षण के दिशा निर्देशन में आयोजित दस दिवसीय समर कैंप बुधवार को संपन्न हो गया। समर कैंप में शामिल 494 स्कूली बच्चों ने इस दौरान अनेक गतिविधियों में बढ़ चढ़कर भाग लिया। समापन के मौके पर मुख्य अतिथि अपर सचिव विद्यालयी शिक्षा रंजना राजगुरु ने स्कूली बच्चों का खूब उत्साह बढ़या। उन्होंने स्कूली बच्चों को कठोर परिश्रम करते हुए अपने लक्ष्य निर्धारित करने पर जोर दिया।
   विद्यालयी शिक्षा विभाग द्वारा 28 में से 5 जून तक राजीव गांधी नवोदय विद्यालय तपोवन में स्कूली बच्चों के लिए राज्य स्तरीय समर कैंप का आयोजन किया गया। Summer camp में राज्य के विभिन्न विद्यालयों से कुल 494 स्कूली बच्चों ने प्रतिभाग किया। इस दौरान स्कूली छात्र-छात्राओं ने आर्ट और क्राफ्ट, नृत्य, गायन, वादन, साहित्य, थिएटर, मीडिया, फोटोग्राफी, तीरंदाजी, खेलकूद और विज्ञान संबंधी गतिविधियों में उत्साह के साथ प्रतिभाग किया।
    इस अवसर पर निदेशक एकेडमिक शोध एवं प्रशिक्षण बंदना गर्बयाल ने प्रतिभागी बच्चों का खूब उत्साह बढ़ाया और उनके साथ संवाद भी किया। उन्होंने कहा है कि इस प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से जहां स्कूली बच्चों को टीम वर्ग के लिए प्रेरित किया जा सकता है वही बच्चों के मन में रचनात्मकता का भी विकास तेजी से होता है। समापन के मौके पर समर कैंप में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुई अपर सचिव विद्यालयी शिक्षा रंजना राजगुरु ने बच्चों के साथ अपनी अनुभव बताते हुए उन्हें कठोर परिश्रम के साथ अपनी लक्ष्य निर्धारित करने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रतिभागी बच्चों को स्कूल बैग और प्रमाण पत्र भी भेंट किए।
श्व पर्यावरण दिवस पर छात्रों और शिक्षकों के लिए ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिता, प्रतिभागियों को यहां मिलेंगे निदेशक माध्यमिक शिक्षा, मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी गढ़वाल और प्राचार्य डायट नई टिहरी द्वारा नमूना हस्ताक्षरित्र प्रमाण पत्र।
  समर कैंप में प्रतिभाग करने वाले सभी प्रतिभागी बच्चों की दून मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों द्वारा नियमित स्वास्थ्य जांच भी की गई। निदेशक एकेडमिक शोध एवं प्रशिक्षण ने समर कैंप के आयोजन की सहयोगी संस्थाओं हंस फाउंडेशन, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन, लभ्य, रूम टू रीड, आसरा ट्रस्ट, आदि का आभार व्यक्त किया है। इस अवसर पर अपर निदेशक एससीईआरटी श्री अजय कुमार नौडियाल, अपर निदेशक महानिदेशालय ललित मोहन चमोला, संयुक्त निदेशक आशा रानी पैन्यूली, कंचन देवराडी, पदमेंद्र सकलानी, सीईओ देहरादून प्रदीप कुमार रावत, राजीव गांधी नवोदय विद्यालय की प्रधानाचार्य सुनीता भट्ट, प्राचार्य डायट देहरादून राकेश जुगरान, कैलाश डगवाल, डॉ विनोद ध्यानी, रविदर्शन तोपाल, मनोज बहुगुणा, रमेश पंत, डा मदन मोहन उनियाल, डा जगमोहन बिष्ट,  डा मनोज कुमार शुक्ला, डा सुनील भट्ट, रघुवीर बिष्ट, प्रमोद कुमार, सुनील पुरोहित, वीरेंद्र पंवार, अजय त्रिपाठी, अमन आर्य, रोहित सहित विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक शिक्षिकाएं उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ मोहन बिष्ट द्वारा किया गया।

School Education Uttarakhand: शिक्षा विभाग से बड़ी खबर, प्रभारी प्रधानाचार्य और प्रभारी प्रधानाध्यापक बने आहरण वितरण अधिकारी, मांग पूरी होने पर राजकीय शिक्षक संघ ने व्यक्त किया शिक्षा मंत्री का आभार

Himwant Educational News: उत्तराखंड शिक्षा विभाग से बड़ी खबर सामने आई है। शासन ने प्रभारी प्रधानाध्यापक और प्रधानाचार्यों को आहरण वितरण अधिकारी घोषित किया है। मांग पूरी होने पर राजकीय शिक्षक संघ ने शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत, शिक्ष सचिव रविनाथ रमन, अपर सचिव रंजना, शिक्षा महानिदेशक बंशीधर तिवारी, निदेशक महावीर बिष्ट, अपर निदेशक माध्यमिक शिक्षा मुकुल सती, का आभार व्यक्त किया है।
शासन की ओर से निर्गत आदेशों में कहा गया है कि वित्त विभाग के शासनादेश संख्या-61, दिनांक 02.04.2018 द्वारा उत्तराखण्ड वित्तीय हस्त पुस्तिका भाग-1 (वित्तीय अधिकारों का प्रतिनिधायन) के अन्तर्गत विवरण पत्र- 8 (विविध वित्तीय अधिकार) में "किसी कार्यालय में आहरण वितरण के कार्यों के सम्पादन हेतु आहरण वितरण अधिकारी एक स्वतंत्र इकाई के रूप स्थापित संस्थान के सर्वोच्च राजपत्रित अधिकारी को जो लेखा- प्रक्रिया तथा वित्तीय नियमों से भली-भांति परिचित हो, को नामित किये जाने की व्यवस्था है।
2- प्रदेश में शिक्षा विभाग के अन्तर्गत विद्यालयों में प्रधानाचार्य / प्रधानाध्यापक के पद रिक्त होने के कारण आहरण वितरण के कार्य में अत्यधिक कठिनाई हो रही हैं। अतः अपवादस्वरूप जिन विद्यालयों में प्रधानाचार्य / प्रधानाध्यापक के पद लम्बे समय से रिक्त है. उन विद्यालयों में स्थायी रूप से नियुक्त शिक्षक (प्रवक्ता एवं सहायक अध्यापक एल०टी०) जिन्हें प्रभारी प्रधानाचार्य / प्रभारी प्रधानाध्यापक का प्रभार दिया गया है, को सम्बन्धित विद्यालय में आहरण वितरण के कार्य के सुचारू संचालन हेतु आहरण वितरण अधिकारी घोषित किया जाता है। सम्बन्धित आहरण एवं वितरण अधिकारी द्वारा निर्धारित प्रपत्रों पर व्यय विवरण के प्रेपण की सूचना तथा महालेखाकार से लेखों का मिलान सुनिश्चित किया जायेगा ।
हिमवंत ई-पत्रिका को यहां Follow करें।


World environment Day: डायट प्रवक्ता अनिल कुमार धीमान ने घर के आंगन और छतों पर सैकड़ों पौधे लगाकर दिया पर्यावरण संरक्षण का अनूठा संदेश,


जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान रुड़की में विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर डीएलएड प्रशिक्षुओं के द्वारा पर्यावरण संरक्षण को लेकर जागरूकता रैली निकाली गई। इस दौरान डायट परिसर में नुक्कड़ नाटक और पोस्टर प्रतियोगिता सहित कई कार्यक्रम आयोजित किए गए।
श्व पर्यावरण दिवस पर छात्रों और शिक्षकों के लिए ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिता, प्रतिभागियों को यहां मिलेंगे निदेशक माध्यमिक शिक्षा, मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी गढ़वाल और प्राचार्य डायट नई टिहरी द्वारा नमूना हस्ताक्षरित्र प्रमाण पत्र।
 विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर डायट प्राचार्य कमलेश गुप्ता की अपील पर डाइट फैकल्टी  और कर्मचारियों ने डायट परिसर में पौधारोपण करते हुए उन्हें भविष्य में भी संरक्षित करने की शपथ ली गई। इससे पूर्व संस्थान के डएलएड प्रशिक्षुओं ने पर्यावरण संरक्षण पर जन जागरूकता रैली निकलकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में इस दौरान नुक्कड़ नाटक, भूषण और पोस्टर प्रतियोगिता अधिकारी आयोजन किया गया। कार्यक्रम में विज्ञान संकाय के सदस्य अनिल कुमार, अनीता नेगी, प्रेरणा बहुगुणा, देवयानी शर्मा आदि उपस्थित रहे। डाइट प्रांगण में डायट प्राचार्य के साथ एक बरगद का पौधा रोपा गया जिसका संवर्धन एवं संरक्षण  करने का संकल्प लिया गया तथा सभी प्रशिक्षुओं एवं संकाय सदस्यों के द्वारा पर्यावरण के संरक्षण एवं स्वच्छता के लिए शपथ ली गई। कार्यक्रम का संचालन डायट प्रवक्ता अनिल कुमार देवयानी शर्मा, प्रेरणा बहुगुणा और डॉ अनीता नेगी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।
डायट प्रवक्ता अनिल कुमार धीमान ने घर के आंगन और छत पर सैकड़ों पौधे लगाकर दिया पर्यावरण संरक्षण का अनूठा संदश
जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान रुड़की के प्रवक्ता अनिल कुमार धीमान ने अपने घर के आंगन और छतों पर सैकड़ों पौधे लगाकर  पर्यावरण के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए अनूठा संदेश दिया हैं। उनके द्वारा ग्राउंड फ्लोर से लेकर सेकंड फ्लोर तीनों छतों पर लगभग हजारों पेड़ पौधे लगाए हुए हैं जिनकी देखभाल भी वह स्वयं करते हैं। उन्होंने बड़े ड्रम में अमरूद, लीची, रुद्राक्ष, अनार, नींबू एवं दजनो फूलों के पौधे लगाए हुए हैं। अनिल कुमार पर्यावरण संरक्षण को लेकर अनेक सामाजिक गतिविधियां से भी जुड़े हैं। 



Featured post

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी

मिशन कोशिश के अंतर्गत अर्थशास्त्र विषय में पूर्व संबोधों की यहां करें तैयारी    PM SHRI Atal Utkarsh Govt. Inter College Jakhnidhar T.G. Sus...