Posts

Showing posts with the label शाला सिद्धि कार्यक्रम

Translate करें.

मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी एल एम चमोला ने भागीरथीपुरम स्थित नरेंद्र महिला विद्यालय का किया आकस्मिक निरीक्षण

Image
नरेंद्र महिला विद्यालय भागीरथीपुरम  भागीरथीपुरम स्थित नरेंद्र महिला विद्यालय का मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी, ललित मोहन चमोला ने शनिवार को आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने विद्यालय की शैक्षिक प्रगति का जायजा लेते हुए प्रधानाचार्या एवं शिक्षकाओं को आवश्यक निर्देश दिए।      शनिवार को टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी ललित मोहन चमोला आकस्मिक निरीक्षण के लिए भागीरथीपुरम स्थित नरेंद्र महिला विद्यालय पहुंचे। उन्होंने इस दौरान विद्यालय की तमाम गतिविधियों का अवलोकन किया। इस अवसर पर उन्होंने विद्यालय के पठन-पाठन के साथ ही बोर्ड परीक्षाफल के प्रगति की समीक्षा भी की। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कक्षाओं में पहुंचकर छात्राओं से उनकी शैक्षिक प्रगति की जानकारी लेते हुए उनका खूब मनोबल बढ़ाया। उन्होंने शिक्षिकाओं को आईसीटी के साधनों के माध्यम से भी शिक्षण को प्रभावपूर्ण तरीके से छात्राओं के सम्मुख प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान उन्होंने विद्यालय की प्रधानाचार्या को छात्रावास में कमजोर वर्ग की छात्राओं को प्रवेश देने और उन्हें सरकारी योजनाओं की जानकारी देने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान उन्ह

Atal Utkrisht Vidyalaya: उत्तराखंड में द्वितीय चरण में 135 अटल उत्कृष्ट विद्यालयों के चयन के लिए शिक्षा विभाग ने मांगी मुख्य शिक्षा अधिकारियों से आख्या।

Image
  महावीर सिंह बिष्ट, मंडलीय अपर निदेशक गढ़वाल शिक्षा निदेशालय ने द्वितीय चरण में अटल उत्कृष्ट विद्यालयों के चयन के लिए राज्य के 135 विद्यालयों से सीबीएसई ऐफिलेशन से संबंधित मानकों पर आख्या मांगी है। इससे पूर्व पहले चरण में राज्य के 89 विद्यालय अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेजों के रूप में अस्तित्व में आ चुके हैं। प्रवेशोत्सव 2022-23: अपने स्कूल के लिए यहां से करें आकर्षक बैनर और पोस्टर डाउनलोड-      विद्यालई शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी विकास खंडों से द्वितीय चरण के लिए 135 अटल उत्कृष्ट इंटर कॉलेजों  के चयन के लिए सीबीएसई एफिलेशन से संबंधित मानकों पर स्पष्ट आख्या मांगी है। उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड सरकार के पिछले कार्यकाल में नई शिक्षा नीति 2020 के मानकों के अनुरूप राज्य में अटल उत्कृष्ट विद्यालयों के चयन के लिए प्रभावी कदम उठाते हुए कुल 89 इंटर कॉलेजों का चयन अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेज के रूप में किया गया था। इनमें से अधिकतर विद्यालय विगत सत्र में सीबीएसई से सम्बद्ध हो चुके हैं जबकि कुछ विद्यालय मानक पूरे न कर पाने के कारण अभी भी विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर से सम्बद्ध हैं। राज्य सर

Uttarakhand board exam: 25 अप्रैल से शुरू होगा उत्तराखंड बोर्ड परीक्षाओं का मूल्यांकन, विद्यालय शिक्षा परिषद रामनगर ने किए परीक्षकों और अकेक्षकों की तैनाती के आदेश।

Image
  विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर उत्तराखंड की कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं का मूल्यांकन 25 अप्रैल से आरंभ होगा। निर्धारित समय पर मूल्यांकन संपन्न करने के लिए बोर्ड द्वारा परीक्षक और अंकेक्षकों की तैनाती के आदेश जारी कर दिए गए हैं। CU-CET 2022-23: गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय में स्नातक प्रवेश परीक्षा 2022-23 के लिए 6 मई तक करें ऑनलाइन आवेदन,      उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं इन दिनों आयोजित हो रही है और 19 अप्रैल को अंतिम प्रश्न पत्र संपन्न हो रहा है। बोर्ड परीक्षाओं के मूल्यांकन के लिए विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर द्वारा तैयारियां कर ली गई है। इसी क्रम में बोर्ड द्वारा राज्य के समस्त मूल्यांकन केंद्रों पर उप प्रधान परीक्षक, परीक्षक तथा अंकेक्षको की तैनाती की आदेश जारी कर दिए गए हैं। सचिव विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर ने संबंधित प्रधानाचार्य को उपप्रधान परीक्षा, परीक्षक और अकेक्षकों को समयातर्गत मूल्यांकन केंद्रों के लिए कार्यभार मुक्त करने के साथ ही सूचना परिषद कार्यालय को भेजने के आदेश जारी किए हैं। बोर्ड परीक्षाओं के मूल्यांकन के लिए तैनात परीक्षकों व अ

शिक्षकों की वार्षिक गोपनीय आख्या इस वर्ष से होने जा रही है ऑनलाइन, एसीआर गुम होने पर अब नहीं लटकेंगे शिक्षकों के प्रमोशन

Image
 उत्तराखंड में विद्यालयी शिक्षा के अंतर्गत प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक, प्रवक्ता एवं एलटी एवं प्राथमिक शिक्षकों की वार्षिक गोपनीय आख्या इस वर्ष से ऑनलाइन होने जा रही है। इससे जहां शिक्षकों के प्रमोशन के लिए अब सीआर ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ेगी वही वार्षिक गोपनीय आख्या का रखरखाव भी डिजिटल हो जाएगा। शिक्षा विभाग में वार्षिक गोपनीय आख्या के रखरखाव को लेकर पिछले कई वर्षों से अजीबोगरीब स्थितियां बन रही थी। कई बार शिक्षकों के प्रमोशन के दौरान वार्षिक गोपनीय आख्या न मिल पाने के कारण पदोन्नति प्रक्रिया में अनावश्यक व्यवधान पैदा होता था। विभाग अब शिक्षकों की वार्षिक गोपनीय आख्या को डिजिटल मोड में तैयार करने जा रहा है। निदेशक माध्यमिक शिक्षा सीमा जौनसारी ने गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के अपर निदेशक माध्यमिक शिक्षा सहित सभी जनपदों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों को राज्य के समस्त माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत प्रधानाचार्य प्रधानाध्यापक, प्रवक्ता एवं सहायक अध्यापकों की वार्षिक गोपनीय आख्या को ऑनलाइन तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षणिक संवर्ग के कार्मिकों की वार

टिहरी की शालासिद्धि टीम को मुख्य शिक्षा अधिकारी शिव प्रसाद सेमवाल ने किया सम्मानित। ई-पत्रिका "हिमवंत" की भी जमकर की सराहना।

Image
शालासिद्धि कार्यक्रम में गत वर्ष शतप्रतिशत विद्यालयों से स्वमूल्यांकन का लक्ष्य प्राप्त करने और राज्य में जनपद टिहरी गढ़वाल को इस कार्यक्रम में प्रथम स्थान पर लाने पर कार्यक्रम के सयोजकों को कृषि मंत्री के प्रतिनिधि पालिकाध्यक्ष नरेंद्रनगर तथा मुख्य शिक्षा अधिकारी ने सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्य शिक्षा अधिकारी ने  ई-पत्रिका "हिमवंत" के लिए शिक्षक सुशील डोभाल के प्रयासों सहित बेहतर कार्य करने वाले कई शिक्षकों की सराहना की है। शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन की प्रक्रिया जानने के लिए यहां करें क्लिक। जनपद स्तरीय इंस्पायर अवार्ड प्रतियोगिता के समापन के अवसर पर कृषि मंत्री के प्रतिनिधि व पालिकाध्यक्ष नरेंद्रनगर राजेन्द्र विक्रम सिंह तथा  मुख्य शिक्षा अधिकारी शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर संचालित शालासिद्धि स्वमूल्यांकन कार्यक्रम में टिहरी की टीम द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने पर टिहरी जिले को राष्ट्रिय स्तर पर पहचान मिली है और इसके लिए सीमेंट को राष्ट्रीय स्तर का अवार्ड भी मिल पाया है। उन्होंने शालासिद्धि के जिला प्रभारी मुकेश डोभाल की सराहना करते हुए आशा व्य

शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन की प्रक्रिया को जाने। ऐसे होगा शालाओं का बाह्य मूल्यांकन सम्पन्न।

Image
शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन        शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन कार्यक्रम में आपका स्वागत है। विद्यालयों के स्व मूल्यांकन के बाद अब बाह्य मूल्यांकन किया जाना है और इसकी सम्पूर्ण प्रक्रिया को लेकर आपकी अनेक जिज्ञासाएं होनी स्वाभाविक हैं, जिन्हें ध्यान में रखते हुए बाह्य मूल्यांकन की संपूर्ण प्रक्रिया को अपने ई-पेज "हिमवंत" के माध्यम से आप के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूं। आशा करता हूं कि मेरी अन्य पोस्ट की तरह यह पोस्ट भी उत्तराखंड ही नहीं अन्य राज्यों के शिक्षकों और शिक्षा अधिकारियों के लिए उपयोगी साबित होगी। बाह्य मूल्यांकन एक उपयोगी प्रक्रिया है जिसके द्वारा विद्यालय स्तर पर स्व मूल्यांकन के माध्यम से शाला सिद्धि पोर्टल पर अंकित ही गई सूचनाओं का सत्यापन किया जा सकता है और इसके द्वारा शाला उन्नयन कार्य की बेहतरीन निगरानी भी की जा सकती है। स्व मूल्यांकन की प्रक्रिया इस वर्ष के लिए अपने अंतिम चरण में पहुंच गई है और बहुत कम विद्यालय ही अब शेष हैं जिनमें अभी तक स्व मूल्यांकन की प्रक्रिया संपन्न नहीं हो पाई है। विभागीय अधिकारियों के निर्देशों के अनुपालन में उत्तराखंड के टिहरी गढ़वा

विकासखंड जाखणीधार के इन विद्यालयों ने अभी तक नहीं किया शालासिद्धि पोर्टल पर स्वमूल्यांकन. 20 दिसम्बर से पहले करनी होंगी डाटा इंट्री.

Image
Shaala Siddhi 2019-10 School which not start self evaluation as on 19 Dec 2019 6:00PM Block- Jakhnidhar Tehri Garhwal. Sl.No. School UDISE Code School Name District Block Cluster 1 5040403002 JH DEVTADHAR TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR SAIN 2 5040407602 PS TIPREE (NAWAKOT) TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR KUMARDHAR 3 5040412201 PS NIRALIDHAR TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR GARAKOT 4 5040412403 PS TONDHAR TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR SILOLI 5 5040413203 GHS NELDA TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR SILOLI 6 5040416001 PS JAKHNIDHAR TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR KUMARDHAR 7 5040417301 PS DUGDAA TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR JALWALGAUN 8 5040418001 JH MARODA TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR GARAKOT 9 5040404201 PS GHONTEE GAON TEHRI GARHWAL JAKHNIDHAR SAIN 10 50

जाखणीधार ब्लॉक में शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन हुआ आरम्भ। राज्य में बाह्य मूल्यांकन शुरू करने वाला जाखणीधार बना पहला विकासखंड.

Image
   शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद टिहरी गढ़वाल के जाखणीधार ब्लॉक में विद्यालयों के स्वमूल्यांकन के साथ बाह्यमूल्यांकन का कार्य भी शुरू हो गया है। इसके साथ ही वर्ष 2019-20 के लिए स्कूलों का बाह्य मूल्यांकन शुरू करने वाला जाखणीधार राज्य का पहला विकासखण्ड बन गया है। ब्लॉक स्तरीय बाह्य मूल्यांकन टीम ने अभी तक 5 विद्यालयों का बाह्य मूल्यांकन सम्पन्न कर दिया है। कार्यक्रम के तहत स्वमूल्यांकन की प्रक्रिया सम्पन्न कर चुके 33 फीसदी विद्यालयों का अनिवार्य रूप से बाह्य मूल्यांकन किया जाना है।       देशभर में प्राथमिक से लेकर उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों तक शैक्षणिक उन्नयन के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यालयों के सुधार और संवर्धन के लिए कार्य योजना तैयार की गई है। इसके लिए शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यालयों का स्व मूल्यांकन और बाह्य मूल्यांकन किया जाता है, और विद्यालयों की कमजोर पहलुओं के लिए ठोस कार्य नीति तैयार करते हुए सुधार के प्रयास किए जाते हैं। इस कार्यक्रम के अंतर्गत शाला सिद्धि पोर्टल पर विद्यालय से संबंधित व

जाखणीधार ब्लॉक में शाला सिद्धि बाह्य मूल्यांकन हुआ आरम्भ। राज्य में बाह्य मूल्यांकन शुरू करने वाला जाखणीधार बना पहला विकासखंड.

Image
शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद टिहरी गढ़वाल के जाखणीधार ब्लॉक में विद्यालयों के स्वमूल्यांकन के साथ बाह्यमूल्यांकन का कार्य भी शुरू हो गया है। इसके साथ ही वर्ष 2019-20 के लिए स्कूलों का बाह्य मूल्यांकन शुरू करने वाला जाखणीधार राज्य का पहला विकासखण्ड बन गया है। ब्लॉक स्तरीय बाह्य मूल्यांकन टीम ने अभी तक 5 विद्यालयों का बाह्य मूल्यांकन सम्पन्न कर दिया है। कार्यक्रम के तहत स्वमूल्यांकन की प्रक्रिया सम्पन्न कर चुके 33 फीसदी विद्यालयों का अनिवार्य रूप से बाह्य मूल्यांकन किया जाना है।       देशभर में प्राथमिक से लेकर उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों तक शैक्षणिक उन्नयन के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यालयों के सुधार और संवर्धन के लिए कार्य योजना तैयार की गई है। इसके लिए शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यालयों का स्व मूल्यांकन और बाह्य मूल्यांकन किया जाता है, और विद्यालयों की कमजोर पहलुओं के लिए ठोस कार्य नीति तैयार करते हुए सुधार के प्रयास किए जाते हैं। इस कार्यक्रम के अंतर्गत शाला सिद्धि पोर्टल पर विद्यालय से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर

33 फीसदी स्कूलों का होगा शाळा सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत बाह्य मूल्यांकन, टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी एसपी सेमवाल ने दियें आवश्यक निर्देश.

Image
एसपी सेमवाल, मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी     स्कूलों में ‘शाला सिद्धि’ कार्यक्रम के अंतर्गत बाह्य मूल्यांकन किया जाएगा। स्कूलों में शैक्षिक गुणवत्ता सुधार के साथ शिक्षकों की उपस्थिति से लेकर प्रत्येक बिंदु पर मूल्यांकन किया जाएगा। मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी श्री शिव प्रसाद सेमवाल  ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पहले चरण में 33 फीसदी स्कूलों का बाह्य मूल्यांकन कराने के आदेश जारी कर दिए हैं।             मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से प्राथमिक, उच्च प्राथमिक व माध्यमिक  स्कूलों में शाला सिद्धि कार्यक्रम संचालित हो रहा है। इसका उद्देश्य शैक्षिक सुधार, आधारभूत सुविधाओं के साथ शिक्षकों के दायित्व निर्धारित करना है। स्कूलों ने स्वयं मूल्यांकन कर रिपोर्ट आनलाइन फीड कर दी है। टिहरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी शिव प्रसाद सेमवाल ने बाह्य मूल्यांकन कराने के सभी खंड और उप शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने  कहा कि मूल्यांकन टीम में दूसरे स्कूलों के प्रधानाध्यापक, प्रधानाचार्य, बीआरसी आदि भी शामिल होंगे। बाह्य मूल्यांकन का विवरण भी शाळा सिद्धि पोर्टल पर अपलोड किया जाना

Himwant readers